आजमगढ़ जिले में नवरात्र के पहले दिन रविवार को देवी मंदिरों पर श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। इस दौरान घंट-घड़ियाल व भक्तिगीतों से पूरा माहौल ही दुर्गामय हो गया है। शहर के चौक स्थित दक्षिणमुखी देवी मंदिर पर सुबह से ही श्रद्धालुओं ने पूजा अर्चना शुरू किया। बतादे कि नवरात्र को लेकर घर-घर में कलश की स्थापना की गई और पूजन-अर्चन शुरू हो गया है। मां के जयकारे चौतरफा गूंजते रहे। भक्तिगीतों से लोग ओत-प्रोत हो गए। चौक दक्षिणमुखी मंदिर पर सुबह पांच बजे से ही श्रद्धालुओं ने आना शुरू कर दिया था। पहले दिन मां की प्रतिमा को भव्य रूप से सजाया संवारा गया था। सुबह से शुरू हुआ पूजन अर्चन देर रात तक चलता रहा। इस दौरान मां के जयकारे से पूरा माहौल गुंजायमान होता रहा। जिले के चौक में दक्षिण मुखी मां काली का मंदिर स्थित है, ये मंदिर 200 साल से भी ज्यादा पुराना माना जाता है, नवरात्र के दौरान तो इस मंदिर की छठा ही निराली हो जाती है, यहां हर दिन बड़ी संख्या में भक्त मां काली के दर्शनों के लिए आते हैं, मान्यता है कि यहां आकर दर्शनों के बाद मां का आशीर्वाद लेने पर भक्तों की हर मुराद पूरी हो जाती है, पूरे देश में सिर्फ दो ही दक्षिणमुखी मंदिर मौजूद हैं, पहना मंदिर कोलकाता में है तो दूसरा दक्षिणमुखी मंदिर आजमगढ़ में मां काली का धाम है। यहां अपने मन की मुराद लेकर ना सिर्फ देश बल्कि दुनिया के कई हिस्सों से श्रद्धालु पहुंचते हैं,दक्षिण मुखी मां काली के इस मंदिर को तांत्रिक मंदिर माना जाता है, इसी वजह से यहां भक्तों की आस्था और ज्यादा दिखाई देती है। यहां सिर्फ आम इंसान ही नहीं बल्कि प्रशासनिक अफसर भी बड़ी आस्था रखते हैं, मंदिर प्रशासन से जुड़े लोगों की मानें तो इस जिले में तैनात रहे कई अफसर ऐसे भी हैं जो ट्रांसफर होने का बाद भी लगातार मां के दर्शनों के लिए यहां आते रहते हैं। साथ ही सिर्फ यूपी ही नहीं बल्कि देश के तमाम राज्यों से माता के भक्त यहां दर्शन कर मां का आशीर्वाद लेने के लिए पहुंचते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *