खबर और विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें। मो0नं0-6394818297

आजमगढ़| मुख्यमंत्री उ0प्र0 योगी आदित्यनाथ  द्वारा लोकभवन लखनऊ में उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा निष्पक्ष एवं पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया के अन्तर्गत प्रदेश में नव चयनित 7720 लेखपालों को नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया। उक्त कार्यक्रम का सजीव प्रसारण मण्डलायुक्त  मनीष चैहान एवं जिलाधिकारी  विशाल भारद्वाज की उपस्थिति में हरिऔध कला केन्द्र आजमगढ़ में किया गया।
जनपद स्तर पर हरिऔध कला केन्द्र आजमगढ़ में नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम का शुभारम्भ मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी द्वारा माॅ सरस्वती के चित्र प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया। इसके साथ ही जनपद के नव चयनित 230 लेखपालों को मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी द्वारा नियुक्ति पत्र का वितरण किया गया।
मण्डलायुक्त  मनीष चैहान ने सभी नव चयनित लेखपालों को सरकारी सेवा में आने के लिए बधाई देते हुए कहा कि लेखपाल प्रशासन का महत्वपूर्ण अंग होता है, जिसकी सहायता से जमीन से संबंधित हर प्रकार के समस्याओं का समाधान किया जाता है। उन्होने कहा कि इसके बाद आप सभी को प्रशिक्षण दिया जायेगा, प्रशिक्षण को पूरे मनोयोग से लें। प्रशिक्षण के उपरान्त आवंटित ग्रामों में जाकर पूरे निष्पक्ष एवं पारदर्शी तरीके से जमीन से संबंधित मामलों का निस्तारण करें। उन्होने कहा कि यह प्रयास करें कि ग्राम से संबंधित विवादों का निस्तारण ग्राम स्तर पर ही हो जाये, किसी भी प्रकरण को टालें नहीं, दोनों पक्षों को बुलाकर समझायें एवं विवाद का निस्तारण करायें, कहीं पर भी मुकदमे की स्थिति उत्पन्न न होने दें। उन्होने कहा कि कार्य करने में आपके विरूद्ध किसी भी प्रकार की शिकायत नही आनी चाहिए, किसी के साथ भेदभाव न करें।
जिलाधिकारी  विशाल भारद्वाज ने कहा कि राजस्व विभाग सबसे पुराना विभाग है। उन्होने सभी नव चयनित लेखपालों से कहा कि आपको जो भी दायित्व दिये जायेंगे, उसका पूर्ण निष्ठा के साथ निर्वहन करना आप सभी की जिम्मेदारी है, क्योंकि सबसे निचले स्तर के प्रकरण में भी आप खेत/जमीन से संबंधित समस्याओं का निस्तारण करेंगे। किसी भी कार्य को करने के लिए देरी न करें। उन्होने कहा कि वर्तमान समय में उ०प्र० सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं में स्वामित्व योजना, मुख्यमंत्री कृषक दुर्घटना कल्याण योजना, बाढ़ आपदा, सीमा स्तम्भों का सत्यापन, खातेदारों के गाटे में अंश निर्धारण, ई-खसरा सर्वे, निर्विवाद उत्तराधिकार (वरासत) का समय से निस्तारण, धारा-24 व धारा-116, जाति, आय, निवास प्रमाण पत्रों के आवेदन का समय से निस्तारण आदि कार्य शासन की प्राथमिकता में है। उन्होने लेखपालों से कहा कि वर्तमान समय में सरकार द्वारा संचालित योजनाओं में खातेदारों के गाटों में अंश निर्धारण का कार्य कराया जा रहा है। गाटों का अंश निर्धारण हो जाने से खातेदारों के बीच कब्जे को लेकर होने वाले भूमि विवाद व मुकदमेंबाजी में कमी आयेगी। अंश निर्धारण के साथ ही साथ रियल टाइम खतौनी निर्माण का कार्य चल रहा है, जो शासन की महत्वपूर्ण प्राथमिकताओं में सम्मिलित है। रियल टाइम खतौनी बन जाने से भूमि के क्रय-विक्रय व भू-स्वामियों के पहचान में सुविधा होगी। जिलाधिकारी ने कहा कि निर्विवाद उत्तराधिकार (वरासत) के आवेदन पत्रों का समय से निस्तारण शासन की प्राथमिता में है, जिसका एक निश्चित समय में निस्तारण किया जाना आवश्यक होता है।
जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद को आज 230 नव नियुक्त लेखपाल मिल जाने से शासन/परिषद के महत्वपूर्ण योजनाओं के संचालन में काफी मदद मिलेगी और जनहित के सभी कार्य सरकार के मंशानुरूप समय से पूर्ण हो जाने से सरकार की छबि जनता में अच्छी बनेगी। उन्होने कहा कि हमे पूरा भरोसा है कि एक पारदर्शी और निष्पक्ष प्रक्रिया जनता तक पहुॅचाने में आप सभी सहायक होंगे और समाज के अन्तिम व्यक्ति तक लाभ पहुंचायेंगे।
इस अवसर पर मुख्य राजस्व अधिकारी विनय कुमार गुप्ता एवं समस्त उप जिलाधिकारी, तहसीलदार सदर, जन प्रतिनिधिगण सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *