भारत की एकता व अखंडता के शिल्पकार सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर आयोजित रन फॉर यूनिटी कार्यक्रम में लखनऊ में एकता दौड़ का आयोजन किया गया। इस मौके पर रक्षामंत्री व लखनऊ से सांसद राजनाथ सिंह व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों को संबोधित किया और सभी को राष्ट्रीय एकता दिवस की बधाई दी। एकता दिवस को रवाना करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा 1947 में जब देश आजाद हुआ था तो स्वतंत्र भारत में अलग-अलग रियासतों को भारत गणराज्य का हिस्सा बनाने में पटेल ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। तत्कालीन समय में उनके योगदान को वह सम्मान नहीं मिला। वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पटेल को सम्मान और कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस शुरू किया गया। आज राष्ट्रीय एकता दौड़ पर हम सभी को किसी भी वाद से ऊपर उठकर नेशन फर्स्ट के साथ जुड़ना चाहिए। एकता रैली को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रथम गृहमंत्री सरदार पटेल की जयंती पर आज एकता दौड़ किया जा रहा है। आज के दिन हमें उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों को भी स्मरण करना चाहिए जिन्होंने आजादी की लड़ाई में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

562 रियासतों में बंटा भारत आजाद हुआ था,पहले गृह मंत्री सरदार पटेल ने जो भूमिका निभाई थी उसे भारत एक हो पाया।उनके कूटनीति और रणनीति का परिणाम ही रहा कि निजामगढ़, जूनागढ़, हैदराबाद सहित सभी रियासतें भारत का हिस्सा बन पाए। जम्मू कश्मीर की जिम्मेदारी भी सरदार पटेल को मिली होती तो 370 की समस्या नहीं होती। सरदार पटेल नहीं होते तो आप कल्पना कर सकते थे जूनागढ़ और हैदराबाद जाने के लिए भारतीयों को वीजा लेना पड़ता।

कुछ कारण से उनकी भूमिका को सामने नहीं आने दिया गया। सरदार पटेल ने देश का केवल एकीकरण ही नहीं किया स्टील फ्रेम सिविल सेवा का भी उन्होंने ही निर्माण किया। सरदार पटेल का योगदान महत्वपूर्ण है उनके प्रति कृतज्ञता करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में 182 फीट का स्टैचू ऑफ यूनिटी के नाम से उनके प्रतिमा का निर्माण कराया।

यह स्थल आज एक पर्यटन स्थल भी है। उन्होंने लोगों से कहा कि अगर गुजरात जाए तो इस स्थान पर जरूर जाएं। उन्होंने कहा कि आज से प्रधानमंत्री मेरा भारत युवा अभियान भी शुरू कर रहे हैं राष्ट्रीय भावना से इस अभियान में सभी को जुड़ना चाहिए। उन्होंने इंदिरा गांधी के बलिदान दिवस पर श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रीय एकता की संकल्प शपथ भी दिलाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *