आगरा। पत्नी से तलाक के बाद दांपत्य सुख की तलाश ने डाक्टर का जीवन नर्क बना दिया। वैवाहिक वेबसाइट पर मिली जीवन साथी ने डाक्टर से सुहागरात पर 50 लाख रुपये की मांग कर दी। पत्नी धर्म निभाने की जगह डाक्टर को तरह-तरह से परेशान करने लगी। शाहगंज के रहने वाले डाक्टर ने पुलिस को बताया कि उनका वर्ष 2019 में पत्नी से तलाक हो गया था। बेटी की जिम्मेदारी उनके उपर है। वैवाहिक वेबसाइट के माध्यम से उनकी मुलाकात गाजियाबाद की रहने वाली महिला से हुई। महिला ने खुद को शिक्षक और अधिवक्ता बताया। वह अगस्त 2022 में उससे शादी के बारे में बातचीत करने गाजियाबाद गए थे। डाक्टर के अनुसार वह साजिश का शिकार हो गए। गाजियाबाद रिश्ते की बात करने गए तो वहां शादी के सारे प्रपत्र पहले से तैयार रखे थे। पत्नी ने दबाव डालकर उनसे शादी कर ली। शादी के बाद महिला उनके घर पर आयी। वह घर, परिवार और संपत्ति के बारे में पूरी जानकारी लेती रही। वह पत्नी धर्म निभाने की जगह उन पर 50 लाख रुपये अपने पहले पति से उत्पन्न पुत्र के नाम करने का दबाव बनाने लगी। डाक्टर ने पुलिस को बताया, पत्नी की बात मानने से इंकार करने पर उसने उत्पीड़न शुरू कर दिया। उनसे मारपीट और गाली-गलौज करने लगी। अप्रैल में वह घर से बाहर जा रहे थे तो छत पर से गमला फेंक दिया। इसमें वह बाल-बाल बचे। उन पर चाकू से भी हमला किया। उनकी संपत्ति हड़पने के लिए साजिश रचने लगी। आरोप है कि पत्नी ने उन्हें पुत्री को खाने में धीमा जहर देना शुरू कर दिया। इससे उनकी बेटी की हालत बिगड़ गई। उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।  पत्नी ने मानसिक उत्पीड़न का नया तरीका खोज लिया। एक जुलाई को कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया। पूरी रात नहीं खोला तो अनहोनी की आशंका पर पुलिस को बुलाया। दरवाजा तोड़ने पर वह आराम से बैठी मिली। पत्नी का कहना था कि वह जब तक संपत्ति उसके नाम नही करते, इसी तरह परेशान करेगी। उन्होंने अपनी सुरक्षा के लिए घर में सीसीटीवी कैमरे लगवा लिए। पत्नी ने कैमरे तोड़ डाले। डाक्टर का आरोप है कि छह अक्टूबर की दोपहर पत्नी घर से सारे जेवरात और दो लाख रुपये के अलावा उनके मूल प्रमाण पत्र ले  गई। पत्नी 16 अक्टूबर को दोबारा आयी तो उनके अस्पताल और कार्यालय का ताला तोड़ दिया। डेबिट कार्ड, पासबुक, चेक बुक, शोध पत्र समेत अन्य प्रपत्र आदि ले गयी। मामले में पीड़ित ने अपर पुलिस आयुक्त के यहां शिकायत की थी। उनके आदेश पर जांच के बाद पत्नी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है। प्रभारी निरीक्षक शाहगंज आलोक सिंह ने बताया कि विवेचना कर साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं, इसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *