खबर और विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें। मो0नं0-6394818297

आजमगढ़ | दीवानी न्यायालय की सुरक्षा व्यवस्था अब और भी सुदृढ़ होगी। दीवानी न्यायालय में के सभी प्रवेश द्वार पर मेट्रो स्टेशन जैसे हाईटेक बैरियर लगाए जाएंगे। इस सुरक्षा व्यवस्था के लिए बनने वाले कंट्रोल रूम का शिलान्यास गुरुवार को जिला जज संजीव शुक्ला ने विधिवत भूमि पूजन कर के किया। उत्तर प्रदेश शासन तथा हाई कोर्ट इलाहाबाद हाईकोर्ट में पूरे प्रदेश में लखनऊ तथा आजमगढ़ दीवानी न्यायालय में नए तरीके की सुरक्षा व्यवस्था को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर लागू करने का फैसला किया है।इसके तहत दीवानी न्यायालय की सुरक्षा को हाईटेक किया जाएगा। बिना पास के किसी भी व्यक्ति को कचहरी में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। न्यायाधीशों ,अधिवक्ताओं तथा वादकारियों के प्रवेश करने के लिए अलग-अलग गेट होंगे। न्यायालय परिसर में प्रवेश करने के लिए न्यायिक अधिकारियों कर्मचारियों तथा अधिवक्ताओं और उनके मोहर्रिरो का माइक्रोचिप लगा हुआ आइडेंटिटी कार्ड बनाया जाएगा। वादकारियों को प्रवेश करने के लिए दो जगह पर गेट पास बनाने के लिए काउंटर बनाए जाएंगे।जहां वादकारी अपना पास बनवा सकेंगे। वादकारी अपना पहचान पत्र दे कर तथा अधिवक्ता से अगली तारीख की जानकारी लेकर अपना गेट पास तारीख से पहले भी बनवा सकेंगे। इस पूरी सुरक्षा व्यवस्था को लागू करने की जिम्मेदारी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड (ई सी आई एल)को सौंपी गई है । दीवानी न्यायालय की सुरक्षा व्यवस्था के नोडल अफसर अपर जिला जैनेंद्र कुमार पांडे तथा सतीश अपर जिला सतीश चंद्र द्विवेदी ने बीते हफ्ते ई सी आई एल के अधिकारियों के साथ कचहरी परिसर की सभी प्रवेश द्वारों का मुआयना किया था। जहां सुरक्षा व्यवस्था के लिए आवश्यक बैरियर तथा बैगेज स्कैनर लगाए जाएंगे।ई सी आई एल के अधिकारियों का कहना है गुरुवार को शिलान्यास किए गए कंट्रोल रूम का निर्माण लगभग तीन महीने में पूरा हो जाएगा। भूमि पूजन के अवसर पर अपर जिला जज सतीश चंद्र द्विवेदी, जैनेंद्र कुमार पांडेय, धनंजय कुमार मिश्रा, संतोष कुमार यादव, रमेश चंद्र ,सीजेएम सत्यवीर सिंह सिविल जज सीनियर डिवीजन अनुपम त्रिपाठी, एसीजेएम रश्मि चंद,कुंवर रोहित आनंद, सुनील कुमार सिंह,दीपक कुमार सिंह,समेत बहुत से न्यायिक अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *