मूसानगर, कानपुर देहात । यमुना के बढ़ते जल स्तर से मनकी पुल से देखने में लोगों को एहसास होने लगा कि पुनः इस वर्ष भी बाढ़ अपना विकराल रूप धारण कर सकती है । झमाझम बारिश के चलते यमुना में बाढ़ की संभावना हुई तेज।
मूसानगर। तेज बारिश के कारण यमुना का जलस्तर लगभग एक सप्ताह से 7 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है यमुना नदी में बढ़ रहा है पानी को लेकर तटवर्ती गांवों के किसानों के लिए बनी चिंता का कारण बाढ़ की आशंका से प्रशासन ने यमुना नदी के पानी पर निगरानी रखना शुरू कर दिया है बरसात के मौसम में यमुना नदी में बाढ़ आने से भोगनीपुर तहसील क्षेत्र के करीब तीन दर्जन से अधिक गांव बाढ़ की चपेट में आ जाते हैं इन गांवों के किसानों की खेती बाढ़ से जल मग्न हो जाती है जिससे काफी नुकसान उठाना पड़ता है यमुना नदी की बाढ़ से सिंगुर नदी भी उफान कर रूद्र रूप धारण कर लेती है बाढ़ के विकराल रूप से क्यूंट्रारा बांगर पथार मूसरिया समेत अन्य दर्जनों गांव के लोग बाढ़ से प्रभावित हो जाते हैं।
केंद्रीय जल आयोग केंद्र कालपी के शिफ्ट प्रभारी रुपेश कुमार ने बताया कि बुधवार को यमुना नदी का जलस्तर दोपहर 1:00 तक करीब 98.05 मीटर पर रहा है हालांकि प्रति घंटे 6 से 7 सेंटीमीटर के रफ्तार से जलस्तर में वृद्धि हो रही है उन्होंने बताया कि अभी किसी बांध से पानी नहीं छोड़ा गया है बरसात का पानी है देर रात तक पानी कम होने की उम्मीद है वही नगर पंचायत कस्बे से लगा रिमाइंड देवी के पास नाले के निर्माण होने से आने जाने वाले लोगों को सहूलियत तो मिलती परंतु पीडब्ल्यूडी के लापरवाही के चलते समय से निर्माण कार्य न होने से सर्विस रोड भी ध्वस्त पड़ा हुआ है। जिससे लोगों को समस्याएं उत्पन्न हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *